मुख्‍य सामग्री पर जाएं
HPCL Rajasthan Refinery Limited

हमारे निदेशक मंडल

हिंदुस्तान पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड द्वारा नामांकित गैर-कार्यकारी निदेशक

श्री. पी. के. जोशी अध्यक्ष

श्री पुष्प कुमार जोशी 10 मई, 2022 से निगम के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक हैं। इससे पहले, वे 01 अगस्त, 2012 से निगम के मानव संसाधन निदेशक थे। अतीत में, उन्होंने मानव संसाधन कार्यों में प्रमुख विभागों को भी संभाला था। अर्थात। कार्यकारी निदेशक - एचआरडी और हेड - मार्केटिंग डिवीजन के एचआर।

विधि में स्नातक और एक्सएलआरआई, जमशेदपुर के पूर्व छात्र, श्री. पुष्प कुमार जोशी 1986 में एचपीसीएल में शामिल हुए थे। तब से वह मानव संसाधन और औद्योगिक संबंध के क्षेत्र में विभिन्न महत्वपूर्ण पदों पर एचपीसीएल के प्रधान कार्यालय, विपणन और रिफाइनरी प्रभागों में काम कर चुके हैं।

कर्मचारी उन्मुख और उच्च प्रदर्शन संस्कृति के उद्देश्य से रचाई गई मानव संसाधन की प्रमुख नीतियों और प्रथाओं के निर्माण एवं परिनियोजन के लिए श्री. जोशी उत्तरदायी है।

अक्षय परियोजना - नेतृत्व विकास कार्यक्रम, उत्पादकता में सुधार की पहल, आंतरिक ग्राहकों की देखभाल के लिए सूचना तकनीक की प्रभाव क्षमता को सुधारना, विभिन्न तकनीकी और व्यवहार प्रशिक्षण कार्यक्रम, मानव संसाधन- बिजनेस प्रोसेस पुनर्रचना (BPR), JDE (मानव संसाधन) का कार्यान्वयन, स्वास्थ्य प्रबंधन प्रणाली, एचआर ग्रीन क्रेडिट जैसी एचपीसीएल की विभिन्न मानव संसाधन प्रथाओं को , व्यापार को ध्यान में रखकर, उन्होंने नेतृत्व किया है।

श्री. विनोद एस शेनॉय निदेशक - रिफाइनरिज़

श्री विनोद एस शेनॉय ने 1 नवम्बर 2016 से इन्होने रिफाइनरिज़ - निदेशक के रूप में कार्यभार संभाला हैं| इससे पूर्व वे एचपीसीएल रिफाइनरीज़ के समन्वय के महाप्रबंधक थे।

आईआईटी बॉम्बे से केमिकल इंजीनियरिंग में स्नातक, श्री विनोद शेनॉय ने जून 1985 से एचपीसीएल के साथ अपने कैरियर की शुरुआत की है| अपने कैरियर के 35 सालों के दौरान, श्री शेनॉय ने रिफाइनरी प्रभागों और हिंदुस्तान पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड के कॉर्पोरेट विभागों में विभिन्न पदों पर कार्य किया है और उन्हें पेट्रोलियम उद्योग का व्यापक अनुभव है|

श्री रजनीश नारंग निदेशक

श्री रजनीश नारंग कॉर्पोरेट वित्त हिंदुस्तान पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड, महारत्न ऑयल कंपनी के कार्यकारी निदेशक हैं। इससे पूर्व, उन्होंने कार्यकारी निदेशक - वित्त (विपणन), अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक के कार्यकारी सहायक के तौर पर एचपीसीएल सहित अन्य महत्वपूर्ण विभागों को संभाला है। वह कई एचपीसीएल संयुक्त उद्यम कंपनियों के बोर्ड के सदस्य हैं।

इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड एकाउंटेंट्स ऑफ इंडिया (आईसीएआई) के सदस्य एवं वित्तीय प्रबंधन में परास्नातक की डिग्री, श्री नारंग अपने साथ डाउनस्ट्रीम ऑयल कंपनी के विभिन्न स्पेक्ट्रम में 3 दशकों भी से अधिक के समृद्ध और विविध पेशेवर अनुभव लेकर आए हैं। उन्होंने एचपीसीएल के अंतर्गत कॉरपोरेट फाइनेंस, ट्रेजरी, रिस्क मैनेजमेंट, मार्जिन मैनेजमेंट, मार्केटिंग फाइनेंस, बजटिंग, एसबीयू कमर्शियल, सीएंडएमडी ऑफिस एवं रिफाइनरी प्रोजेक्ट के क्षेत्र में कई महत्वपूर्ण व चुनौतीपूर्ण कार्य किए हैं।

श्री रजनीश नारंग को उनके वाणिज्यिक कौशल, नवीन विचारों एवं जन-केंद्रित नेतृत्व के लिए जाना जाता है। अपनी विभिन्न भूमिकाओं में, उन्होंने सफल टीमों व व्यक्तियों के निर्माण के लिए मानव पूंजी में निवेश पर ध्यान केंद्रित किया है तथा सकारात्मक जुड़ाव और एक साझा दृष्टि के माध्यम से असाधारण परिणाम देने में सक्षम हैं। उनके पास विभिन्न शैक्षणिक विशिष्टताएं हैं और वे इन-हाउस क्षमता निर्माण संगोष्ठियों और कार्यशालाओं में एक प्रमुख तकनीकी वक्ता हैं।

सुश्री रमा गुममल्ला निदेशक

सुश्री रमा गुम्माल्ला (डीआईएन 0009036733) मैकेनिकल इंजीनियरिंग के साथ-साथ संचालन विभाग में बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन विशेषज्ञता में पीजी डिप्लोमा है। उनके पास तेल और गैस क्षेत्र में 29 साल का अनुभव है वें वर्तमान में एचपीसीएल में सामग्री, विशाख रिफाइनरी हेडिंग प्रोजेक्ट और रिफाइनरी सामग्री विभाग के अंतर्गत मुख्य महाप्रबंधक के रूप में कार्यरत है। उन्होंने प्रमुख परियोजनाओं के लिए कई महत्वपूर्ण अनुबंधों को अंतिम रूप देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। अपने करियर के दौरान, उन्होंने व्यवहार्यता अध्ययन से लेकर निर्माण और कमीशनिंग चरणों तक मुंबई और विशाख रिफाइनरियों में कई प्रमुख परियोजनाओं को सफलतापूर्वक संभाला। उन्हें हितधारकों और बहु-विषयक क्रॉस फंक्शनल क्षेत्रों को संभालने में विशेषज्ञता प्राप्त है।

उन्हें कई अन्य क्षेत्रों में भी अनुभव है जिसमें आपूर्ति श्रृंखला प्रबंधन, व्यवसाय प्रक्रिया में सुधार, अंतर्राष्ट्रीय क्रूड ट्रेडिंग, रखरखाव प्रबंधन आदि शामिल हैं।

डॉ॰ सुबोध अग्रवाल आईएएस

डॉ॰ सुबोध अग्रवाल भारतीय प्रशासनिक सेवा के 1988 बैच के राजस्थान कैडर के अधिकारी हैं एवं वर्तमान में राजस्थान सरकार में खनिज एवं पेट्रोलियम विभाग में अतिरिक्त मुख्य सचिव के पद पर कार्यरत हैं | डॉ॰ अग्रवाल को अपनी कुशाग्र बुद्धि, सत्यनिष्ठा, लगन एवं उच्च गुणवत्ता के परिणामों के गुणों के कारण विशेष रूप से चुनौती पूर्ण कार्यों के लिए चुना जाता है | अपने 30 वर्षों से अधिक के सेवाकाल में उन्हें केंद्र एवं राज्य सरकार के नीति निर्धारण, सार्वजनिक उपक्रमों के प्रबंधन एवं प्रशासनिक जिलों के नेतृत्व का अनुभव रहा रहा है और उन्होने इस दौरान विभिन्न महत्वपूर्ण पदों पर कार्य किया है |

आई आई टी दिल्ली से सिविल इंजीनियरिंग में स्नातक, आई आई टी दिल्ली से सिस्टम एवं मैनेजमेंट में स्नातकोत्तर डिप्लोमा, अर्थशास्त्र में स्नातकोत्तर, प्रिंसटन विश्वविद्यालय से पब्लिक पॉलिसी में स्नातकोत्तर, लॉं में स्नातक एवं अर्थशास्त्र में डॉक्ट्रेट की उपाधि धारक डॉ॰ अग्रवाल के विभिन्न प्रतिष्ठित समाचार पत्रों एवं पत्रिकाओं में कई शोध पत्र एवं लेख भी प्रकाशित हुए हैं |

उन्हें 10 अगस्त 2020 से निदेशक के रूप में नियुक्त किया गया था |

Hindi